Close
Print This Post Print This Post

Increased blood pressure or pre eclampsia in pregnancy-What every pregnant woman should know!

Dr. Akanksha answers curated questions on Pre eclampsia in this health education series of Samrakshan-The Indian Radiological and Imaging Association Program to reduce perinatal mortality in India. 

Dr. Akanksha Baghel completed her Post Graduation in Radiodiagnosis from Gandhi Medical College at Bhopal, Madhya Pradesh in 2015. After a brief stint at Delhi,  She has been practising Radiology at Baghel Sonography Center, at Harda, Madhya Pradesh since 2017. Dr Akanksha is a keen practitioner of meditation, pranayama and yoga. 

Dr. Akanksha answers curated questions on Pre eclampsia in this health education series of Samrakshan-The Indian Radiological and Imaging Association Program to reduce perinatal mortality in India. 

I am 12 weeks pregnant. My doctor said that I have a higher chance to develop pre-eclampsia. What is pre-eclampsia?

Congratulations on your pregnancy. I am sure you are happy about It and wish you a very happy and safe pregnancy. 

Coming back to your question, please do not be worried. When the doctor says you are at risk to get pre-eclampsia it means you do not have pre-eclampsia now. Not everyone at higher risk will get pre-eclampsia but it is helpful to be aware and have regular follow ups. Let us see what pre-eclampsia is and what we can do about it.

Pregnant women may develop a high blood pressure any time during pregnancy. 

We call it pre-eclampsia if the high blood pressure begins after 20 weeks of pregnancy in a woman who had normal blood pressures before. A urine test may show protein in urine, there may be swelling in the body and other parts of the body like kidneys may be affected. There may be some swelling of the body during pregnancy, not all swelling indicates pre-eclampsia. In simple terms, we can call it as one form of high blood pressure or high BP that occurs during pregnancy.

The blood pressure can increase at any time during pregnancy, so it is important to visit your doctor and have your BP checked regularly. Preeclampsia can happen as early as 5 months of pregnancy or even after 8.5 months or just before childbirth. The blood pressure can also increase within 48 hours of delivery. 

मेरी फ़िलहाल 12 हफ़्ते की गर्भावस्था है, मेरे डॉक्टर के मुताबिक मुझे प्रीक्लेम्पसिया होने की  ज्यादा संभावना  है . ये प्रीक्लेम्पसिया क्या है ?

सबसे पहले तो आपको मातृत्व सुख के लिए बधाई और सुरक्षित और खुशहाल मातृत्व की शुभकामनायें ……

 जैसा कि आपने पूछा इसके लिए परेशान होने की ज़रूरत बिल्कुल नहीं है… यदि डॉक्टर का कहना है कि आपको प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना है तो इसका मतलब ये हुआ कि फिलहाल तो आपको प्रीक्लेम्पसिया नहीं है, और ये ज़रूरी भी नहीं कि जिन भी महिलाओं को इसकी संभावना है उनको प्रीक्लेम्पसिया हो ही …. लेकिन जागरूकता और नियमित जांचों से वाक़ई बहुत हद तक मदद मिलती ही है…. 

तो देंखें क्या है ये प्रीक्लेम्पसिया और इस बारे में क्या प्रयास किये जा सकते हैं . गर्भवती महिलाओं को हाई ब्लड प्रेशर या कहें उच्च रक्तचाप होने की संभावनाएं होती है … प्रीक्लेम्पसिया तब परिभाषित होता है जब किसी भी सामान्य ब्लड प्रेशर वाली महिला को गर्भावस्था के लगभग बीसवें हफ़्ते के बाद हाई ब्लड प्रेशर की समस्या आने लगे. पिशाब की जांच में प्रोटीन हो सकता है ……शरीर के अंगों में सूजन आ सकती है ….. यहाँ तक कि किडनी जैसे अंग भी प्रभावित हो सकते हैं….. देखिये सामान्य तौर पर भी गर्भावस्था के दौरान शरीर में कुछ सूजन आ जाती है … तो इसका ये मलतब बिल्कुल नहीं है कि इसका संबंध प्रीक्लेम्पसिया से हो। देखा जाए तो  प्रीक्लेम्पसिया को हम एक प्रकार का हाई ब्लड प्रेशर कह सकते हैं जो गर्भावस्था में होता है । ब्लड प्रेशर भी गर्भवस्था के दौरान कभी भी बढ़ सकता है …. तो जरूरी है कि डॉक्टर से  परामर्श लिया जाए और ब्लड प्रेशर की जांच नियमित तौर पे कराई जाए । बता दूं कि प्रीक्लेम्पसिया कभी भी हो सकता है जल्द से जल्द 5 महीने और ज्यादा से ज्यादा आठवें या नौवे महीनें ….यहाँ तक कि प्रसव के पहले या डिलीवरी के अड़तालीस घंटे बाद भी । 

Is it dangerous? Will it affect my health or the health of my baby?

There are different levels of severity. It can be mild to moderate or severe in intensity. Pre-eclampsia can affect your health and also affect the health of your baby. If you don’t treat it, it can lead to loss of pregnancy or even death of the mother. 

It Is important to remember that many times the mother may not feel unhealthy and may not notice any change in her body because of BP or Pre-eclampsia. She may feel perfectly normal. That Is why it is very important to visit the doctor regularly and check your BP regularly. 

If the BP is not controlled, it can affect all organs of the body. You have to consult the doctor immediately if you have a 

  • Chest pain
  • Stomach ache
  • Headache
  • Feel dizzy or faint
  • Feel very tired 
  • Vomiting or upset stomach
  • Swelling in your face or hands
  • Bleeding from your gums or nose
  • Rapid Weight gain over 1 or 2 days (result of large increase in bodily fluid)
  • Not passing or very less urine passed 
  • See flashing lights or blurry vision

These are alarming changes so you should be aware of these. 

What happens to the baby? The baby depends on you for its growth and nutrition and health. When your body is not healthy, it can affect the way the baby grows. The baby may become small, not get enough nutrition and may have to be delivered early. 

It is also one of the most common causes of premature births and the complications that can follow, including learning disabilities, Seizure, hearing and vision problems, cerebral palsy mean a group of brain disorders that permanently affect body movement and muscle coordination caused by damage to developing brain, can occur.

Preeclampsia can also cause placenta to suddenly separate from uterus which can lead to stillbirth if occurs later in pregnancy.

क्या इसमें ख़तरा है ? क्या इससे मेरे और मेरे बच्चे के स्वस्थ्य में कोई असर पड़ सकता है ?

देखा जाए तो गंभीर परिणाम छोटे या बड़े स्तर पर भी आ सकते हैं …. हाँ,  प्रीक्लेम्पसिया आपके और पल रहे बच्चे दोनों के स्वास्थ को प्रभावित कर सकता है . उचित और समयानुसार इलाज न लेने पर इससे गर्भपात की संभावना के साथ ही माँ की जान को ख़तरा भी हो सकता है ।  और गौर करने लायक़ बात ये भी है कि बहुत से मामलों में माँ को हाई ब्लड प्रेशर या कहें प्रीक्लेम्प्सीया  के कारण शारीरिक स्तर पे ज्यादा कुछ परिवर्तन महसूस ही न हो ….. यही सबसे महत्वपूर्ण कारण है की आप डॉक्टर के संपर्क में लगातार रहें और नियमित ब्लड प्रेशर नपवाते रहें । 

यदि ब्लड प्रेशर नियंत्रण में नहीं है तो इससे शरीर के बाक़ी अंगों में भी क्षति पहुँचने की संभावना होती है । यदि बताये गए इनमें से किसी भी प्रकार के लक्षण आपको महसूस होते हैं तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करने की आवश्यकता है जैसे कि …..

  • छाती में दर्द
  • पेट में दर्द
  • सिरदर्द 
  • चक्कर आना 
  • ज़रूरत से ज़्यादा थकान का महसूस होना
  • पहले से ज़्यादा उल्टियां और जी मचलाना
  • हाथों और पैरों में सूजन
  • नाक या मसूडों से खून का बहाव
  • अचानक 1 या 2 दिनों में ही वजन बढ़ जाना (जो कि शरीर में सूजन आने से होता है)
  • पिशाब का कम या बिल्कुल न बनना
  • धुंधला दिखना या आँखें चौन्धियानां 

ये सभी खतरे के संकेत हैं इसलिये इनके बारे में आपका जागरूक होना ज़रूरी है ….

रही बात पल रहे बच्चे  की ….की उसे क्या हो सकता है….. ?  बच्चा उसके विकास और पोषण के लिए आप पर ही निर्भर है . अगर आपका स्वास्थ्य ठीक नहीं है तो ये आपके बच्चे के विकास को भी प्रभावित कर सकता है . बच्चा अनुमान से कम वजन का हो सकता है ….और प्रीक्लेम्पसिया के चलते ये भी संभावना है कि वो समय से पूर्व ही पैदा हो जाये । प्रीक्लेम्प्सी समय से पहले जन्म होने के मुख्य संभावित कारणों में से भी एक है और इसके अलावा बच्चे में कुछ स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं के भी जो बाद में दिखाई पड़ती हैं जैसे की  अल्पबुद्धि होना , झटके आना , सुनने और दिखाई देने से संबंधित समस्याएं और सेरिब्रल पाल्सी जैसी बीमारियां जिसमे शारीरिक गतिविधि और मांसपेशियों के समन्वय में बाधा होती है जो कि पल रहे बच्चे के विकसित होते हुए दिमाग़ में किसी क्षति के कारण पैदा होती है .

प्रीक्लेम्पसिया के कारण प्लेसेंटा या आवल अचानक बच्चादानी से अगल भी हो सकती है यदि ऐसा बाद के कुछ महीनों में होता है तो  बच्चे के गर्भ में ही शांत होने की संभावना भी बनी रहती है . 

I do not have pre-eclampsia now, how can the doctor say I may develop it later? How does the doctor find that out?

There are lots of factors that indicate whether particular women can get preeclampsia or not. These have been identified by observing closely women who developed pre-eclampsia.

The doctor will look at these factors to see if you have a greater chance for pre-eclampsia. The doctor will ask questions, do some tests, and then use all the information to decide if you have a greater risk. It is important to answer truthfully and tell you don’t know if you don’t know instead of guessing. 

The doctor will look at 

  • Your age- Being a teen or woman over 40
  • Belonging to particular race 
  • Is this your first pregnancy 
  • Having babies less than 2 years apart or more than 10 years apart
  • High blood pressure before getting pregnant 
  • Had pre-eclampsia in past pregnancy
  • A mother or sister who had pre-eclampsia
  • A history of obesity
  • Carrying more than one baby
  • In-vitro fertilization
  • A history of diabetes, kidney disease, lupus, or rheumatoid arthritis

These things can give a rough idea of possibility of getting preeclampsia in current pregnancy. It does not mean that you will definitely get pre-eclampsia. It means, these have been more commonly seen in women who developed pre-eclampsia, so the chance is on the higher side if you have any of these. 

The doctor will also do some tests. Your blood pressure will be measured. Your blood pressure will be measured in the seated position and in both arms. 

The doctor will also do a Doppler study to measure blood supply to the uterus to analyse whether it’s good or poor. Poor supply is also a major contributing factor in development of preeclampsia. 

The doctor takes all these information together and uses a dedicated statistical method to get a particular risk value for you, a value that can tell you your chances of getting preeclampsia through out the pregnancy. It is easy to predict the things when we have some calculated value right. 

When your doctors say that you might get pre-eclampsia, they give an idea based on the information you give them and the results of the tests. This particular value that is calculated by the doctor includes uterine artery Doppler studies and is really very important. The value becomes less accurate if you do not give complete information or don’t do all tests.    It is important to remember that this value can be obtained any time preferably between 11 to 14 weeks or up to 20 weeks if it has not been done earlier. 

मुझे अभी तो प्रीक्लेम्पसिया नहीं है,  फिर डॉक्टर कैसे कह सकते हैं कि बाद के महीनों में  मुझे होने की संभावना है ? डॉक्टर को ऐसा क्यों लगा ?

बहुत से ऐसे तथ्य होते हैं जो ये इंगित कर सकते हैं कि किसी भी महिला को गर्भावस्था के आने वाले महीनों में प्रीक्लेम्पसिया हो सकता है या नहीं । ये तथ्य उन महिलाओं की बारीक़ी से जांच करके पता लगाये गए  जिन्हें पहले प्रीक्लेम्पसिया हो चुका है …. तो डॉक्टर उन्हीं तथ्यों को ध्यान में रख कर बता पाते हैं कि आपको भी प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना है या नहीं ।

डॉक्टर कुछ संबंधित जानकारी आपसे लेते हैं , कुछ जाँचे करते हैं और फिर इस पूरी प्रक्रिया का इस्तेमाल करके निर्धारित करते हैं कि आपको प्रीक्लेम्पसिया होने की ज़्यादा संभावनाएं हैं या नहीं । इसके लिए ये बहुत ज़रूरी है कि सारी जानकारी सही सही दी जाए और जो आपको नहीं मालूम वो बेझिझक बोल दे न कि अंदाज़ा ही लगाते रहें ।

डॉक्टर दी गयी जानकारी के आधार पे पड़ताल करेंगे कि …

  •  कहीं आप किशोरावस्था में तो नहीं  या उम्रदराज़ तो नहीं जिनमें अमूमन प्रीक्लेम्पसिया ज्यादा देखा गया है 
  • किसी विशेष प्रजाति से तो नहीं हैं जिनमें प्रीक्लेम्पसिया ज्याद पाया जाता है ….
  • क्या ये आपकी पहली प्रेग्नेंसी है…
  • बच्चों में अंतर कहीं 2 वर्ष से कम का या 10 वर्ष से अधिक का तो नहीं….
  • गर्भ धारण करने से पहले ही उच्च रक्तचाप से पीड़ित तो नहीं ।
  • पहले की किसी भी प्रेगनेंसी में प्रीक्लेम्पसिया हुआ था क्या ।
  • आपकी खुद की माँ या आपकी बहन को गर्भावस्था के दौरान प्रीक्लेम्पसिया तो नहीं हुआ .
  • आपका वजन कहीं जरुरत से ज्यादा तो नहीं ।
  • जुड़वा बच्चे होने की स्थिति में भी इसकी संभावना कुछ हद तक होती है ।
  • ई वी एफ प्रेगनेंसी (टेस्ट ट्यूब प्रेग्नेंसी)
  • मधुमेह , गठिया किडनी या जोड़ो की कोई जन्मजात बीमारी ….

तो इन सभी बातों से इस प्रेग्नेंसी में प्रीक्लेम्पसिया होने या न होने की संभावना का  एक मोटा अनुमान लग जाता है । लेकिन इसका ये मतलब बिल्कुल भी नहीं है कि आपको प्रीक्लेम्पसिया होगा ही . इसका ये मतलब हुआ की जिन भी महिलाओं को  पहले की किसी भी प्रेग्नेंसी में प्रीक्लेम्पसिया हो चुका है बताये गए इनमें से कोई न कोई लक्षण उनमें भी सामान्य तौर पे पाए गए थे और अगर आपमें भी ऐसे ही कुछ लक्षण हैं तो

 आपको  प्रीक्लेम्पसिया हो पाने की संभावनाएं इसी आधार पर ज्यादा है ।

इनके अलावा डॉक्टर कुछ जाँचे भी करते हैं । आपका ब्लड प्रेशर नापा जाएगा , बैठे हुए और एक साथ दोंनो हाथों का । डॉक्टर सोनोग्राफी की डॉप्प्लर स्टडी के माध्यम से आपकी बच्चादानी में खून की पर्याप्त मात्रा पहुँच पा रही है या नहीं इसका भी पता लगाएंगे क्योंकि खून का गर्भाशय या बच्चादानी में सामान्य से कम मात्रा में प्रवाह भी प्रीक्लेम्पसिया होने का एक महत्वपूर्ण कारण होता है ।

डॉक्टर इन सभी जानकारियों को इकठ्ठा करके विशेष प्रकार के गणितीय आंकलन द्वारा एक रिस्क वैल्यू  निकालते हैं जो कि ये बता सकती है कि इस पूरी प्रेग्नेंसी के दौरान आपको प्रीक्लेम्पसिया होने की कितनी संभावना है .  चीज़ों के होने की संवम्भावना को पता लगा पाना बड़ा आसान हो जाता है जब हमारे पास किसी भी प्रकार का कोई आंकिक विश्लेषण या कहें रिस्क वैल्यू होती है ।

जब भी डॉक्टर बोलते हैं कि आपको प्रीक्लेम्पसिया हो सकता है , वो एक मोटा मोटा अनुमान बताते हैं उन संबंधित जानकारियों से जो आपने बताई और कुछ जांचों के परिणाम के आधार पर । लेकिन जो  हाई रिस्क वैल्यू आती है उसमें बच्चादानी में खून की मात्रा का कितना प्रवाह है इसकी भी भागेदारी होती है जो की बहुत जरूरी है । इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि यदि  आपने पूरी जानकारी नहीं दी या संबंधित जाँचे नहीं कराई तो सही तौर पे कोई भी हाई रिस्क वैल्यू प्राप्त कर पाना मुश्किल हो जाता है . और ये भी जानना जरूरी है कि ये विश्लेषण प्रेग्नेंसी के शुरुआती महीनों याने 11 से 14 हफ़्ते के बीच कराया जाए तो बेहतर होगा… 20 हफ़्ते तक भी कर सकते हैं यदि पहले न किया गया हो ।

Is there any treatment available? Will it stop me from getting pre-eclampsia?

Once you have pre-eclampsia, the only treatment is delivery of the child. Supportive treatment to control blood pressure, symptoms and take care of your body organs will be done. 

You can help protect yourself by learning the symptoms of preeclampsia and by seeing your doctor for regular prenatal care. Identifying preeclampsia early may lower the chances of long-term problems for both mother and baby.

Your doctor will talk with you about when to deliver based on how far your baby has grown, how well your baby is doing in your womb, and the severity of your preeclampsia.

If your baby has developed well, usually by 37 weeks or later, your doctor may want to induce labour or do a caesarean section. This will keep preeclampsia from getting worse.

If your baby isn’t close to term, you and your doctor may be able to treat mild preeclampsia until your baby has developed enough to be safely delivered. 

If you have mild preeclampsia, also known as preeclampsia without dangerous features, your doctor may prescribe:

  • Bed rest, either at home or in the hospital; resting mostly on your left side
  • Careful monitoring with a fetal heart rate monitor and frequent ultrasounds
  • Medicines to lower your blood pressure
  • Blood and urine tests

As you have asked what can stop getting you pre-eclampsia if you have greater chances, making lifestyle changes guided by your doctor can help keep you healthy. You might need to:

  • Lose some weight if you’re overweight
  • Stop smoking if you smoke
  • Exercise regularly
  • Get your blood pressure or blood sugar under control

Your doctor might also tell you to take a low-dose (150 milligram) aspirin tablet each day at bed time if your calculated risk value comes within the high risk group. But don’t take any medication until your doctor suggests you. Also, remember, aspirin works well only if started early in pregnancy (11-14 weeks), so it is very important consult your doctor in that period, get your blood pressure checked, request your doctor for a Doppler test and collect your risk value. Keep the reports safe and show it to your doctor at every visit.

क्या इसका कोई इलाज़ है ? क्या किसी भी प्रकार से प्रीक्लेम्पसिया से बचा जा सकता है ?

देखिये अगर आपको प्रीक्लेम्पसिया हो चुका है तो ये डिलीवरी के बाद ही जाता है।  लेकिन प्रेग्नेंसी के दौरान आपका ब्लड प्रेशर और संबंधित लक्षणों को सामान्य रख कर बहुत हद तक सहायता की जा सकती है । 

प्रीक्लेम्पसिया से संबंधित लक्षणों के बारे में जानकर और डॉक्टर से नियमित परामर्श लेकर आप बहुत हद तक ख़ुद की मदद कर सकती हैं । प्रीक्लेम्पसिया का जितने जल्दी पता लगता है उससे इसके कारण पूरी प्रेग्नेंसी में माँ और पल रहे बच्चे को होने वाले संभावित सम्स्याओं  से बचाया जा सकता है या बहुत हद तक कम किया जा सकता है।   

नियमित दिखाते रहने से आपके डॉक्टर आपको जानकारी दे सकते हैं कि लगभग कब  डिलेवरी कराना सुरक्षित है , आपके बच्चे का विकास अभी तक कैसा हुआ है और प्रीक्लेम्पसिया की तात्कालिक स्थिति क्या है।

यदि पल रहे बच्चे ने 37 हफ़्ते या अधिक अच्छे से निकाल लिए हैं तो आपके डॉक्टर आपको डिलीवरी या ऑपरेशन की सलाह देते हैं जो कि उस समय की परिस्थिति पे निर्भर करता है , क्योंकि 37 हफ़्तों तक बच्चे का लगभग पूर्ण विकास हो जाता है और इस समय अवधि के बाद भी यदि प्रेग्नेंसी जारी रहे तो प्रीक्लेम्पसिया के ख़तरे में जाने की संभावनाएं लगातार बढ़ती जाती है जिससे और भी ख़राब परिणाम आ सकते हैं ।

और यदि परिपक्वता नहीं आयी है मतलब नवा महीना नहीं लगा है और थोड़े बहुत  प्रीक्लेम्पसिया से संबंधित लक्षण आने शुरू हो चुके हैं तो डॉक्टर इजाल से  कोशिश करते  हैं ताकि बच्चे को गर्भ में विकास के लिये पर्याप्त समय मिल पाए ।

गर्भावस्था के दौरान यदि बिना किसी सांकेतिक खतरे के अगर आपको नाम मात्र का प्रीक्लेम्पसिया है  तो आपके डॉक्टर निम्न बातों की सलाह दे सकते हैं जैसे

  • पूर्ण आराम ( घर या अस्पताल में तात्कालिक परिस्थिति के अनुसार)
  • नियमित और जरूरी सोनोग्राफी और बच्चे की धड़कन देखने संबंधित जाँचे 
  • आपका ब्लड प्रेशर सन्तुलित कर पाने के लिए जरूरी इलाज़ और दवाएं 
  • खून और पिशाब की प्रीक्लेम्पसिया से संबंधित जाँचे।

जैसा कि आपका दूसरा सवाल था कि यदी आपको प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना अधिक है तो डॉक्टर की सलाह के अनुसार जीवन शैली में कुछ नियमित बदलाव करके इससे बचा जा सकता है जैसे कि ….

  • यदि आपका वजन जरूरत से ज्यादा है और अभी प्रेग्नेंसी नहीं ठहरी है तो आपको वजन  कम करना चाहिये और प्रेग्नेंट होने की स्थिति में डॉक्टर द्वारा बताया गया संतुलित आहार ही लिया जाए 
  • धूम्रपान बंद करें यदि करती हों तो
  • नियमित व्यायाम
  • आपका ब्लड प्रेशर और सुगर हमेशा संतुलित होना चाहिए

यदि आंकिक विश्लेषण  या कहें हाई रिस्क वैल्यू से प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना आपमें अधिक आयी है तो  आपके डॉक्टर आपको रात में रोज़ाना लो डोज़ एस्पिरिन (150 एम जी)  लेने की सलाह भी दे सकते हैं । लेकिन जब तक डॉक्टर सलाह न दे कोई भी दवाई अपने मन से न लें । ये बात ध्यान में रखना जरूरी है कि एस्पिरिन तभी कारगर होती है जब प्रेग्नेंसीय के शुरुआती महीनों में ही ली गयी हो । इसलिये प्रेग्नेंसी की  शुरुआत ( 12 से 14 हफ्ते)  में ही डॉक्टर को दिखाना जरूरी होता  है , अपने ब्लड प्रेशर की नियमित जांच करवाते रहे , और अपने डॉक्टर से बच्चा दानी में खून के प्रवाह का अनुमान लगाने के लिए कलर डॉप्प्लर  जांच और उसके आधार पर आने वाले  अंकित विश्लेषण या हाई रिस्क वैल्यू  निकालने का आग्रह किया जा सकता है । सारी जाँचे संभाल कर रखें और इनको नियमित रूप से डॉक्टर को दिखाएं ।

My friend is also 11 weeks pregnant. Should I tell her to ask for any tests?

I am happy you asked this question. Please share this discussion with your friend and ask your friend to visit her doctor within 1 to 2 weeks. Every pregnant woman should visit the doctor between 11 to 14 weeks of pregnancy. Your friend should also share details of any illnesses or medications with the doctor and inform the doctor about her last menstrual period. That will help the doctor to find out if she has a greater chance to get pre-eclampsia in pregnancy. It is important that her blood pressure is checked in both arms and that a Doppler test is done.

 

Remember, finding out early if you have a greater chance for pre eclampsia will help the doctor plan better for your health and the health of your baby.

The Indian Radiological and Imaging Association has started a nationwide program called Samrakshan to help early identification of pre eclampsia in pregnant women in India.  Through the program, we have screened many pregnant women and identified those at risk for pre-eclampsia. Fetal Radiologists, or Radiology doctors specialized in babies can do a Doppler test and give you your own risk estimate. This will help you and your baby. 

मेरी सहेली भी 11 हफ़्ते की गर्भवती है , क्या मुझे उसको भी जांच के लिए बताना चाहिए ?

बहुत ख़ुशी हुई कि आपने ये बात पूछी भी ।  अच्छा होगा अगर हमारे बीच आज जो भी बातचीत हुई वो आप उनसे जाकर कहें और उन्हें  1 या 2 हफ़्ते के अंदर ही डॉक्टर से परामर्श लेने की सलाह दें। वैसे भी सभी गर्भवती महिलाओं को प्रेग्नेंसी के 11 से 14 हफ़्ते के बीच में एक बार परामर्श लेना ही चाहिए । आपकी सहेली को भी डॉक्टर से अपनी किसी भी तात्कालिक या पुरानी बीमारी और उससे संबंधित इलाज़ के बारे में जानकारी देनी चाहिए साथ ही अपनी पिछली माहवारी की जानकारी भी । इन सब से डॉक्टर को पता लगाने में आसानी होती है कि उसे प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना है भी या नहीं ।

ये बहुत महत्त्वपूर्ण है की उनका ब्लड प्रेशर दोनों हाथों से लिया गया हो और सोनोग्राफी से उनका डॉप्प्लर टेस्ट भी हुआ हो । हमेशा याद रखना … यदि आपको प्रीक्लेम्पसिया की ज़्यादा संभावनायें हैं तो इस बात का जितने जल्दी अनुमान लग जाये उतना अच्छा होता  है …इससे आपके डॉक्टर को आपकी और पल रहे बच्चे की सही देखभाल के लिए सही समय पर मदद मिल जाती है ।

संस्था भारतीय रेडियोलोजी एन्ड इमेजिनेशन एशोसियेशन ने राष्ट्रीय स्तर पे समरक्षण नाम से एक मुहीम चला रखी है ताकि प्रेग्नेंसी के दौरान प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना का जल्दी पता लगाया जा सके । इसके माध्यम से हमनें बहुत सी महिलाओं की जांच की है और उनका पता लगाया है जिन्हें  प्रीक्लेम्पसिया की संभावना ज्यादा है । फीटल रेडियोलॉजिस्ट या रेडियोलॉजिस्ट वो डॉक्टर होते हैं जो सोनोग्राफी में डॉप्प्लर के माध्यम से आपको एक रिस्क वैल्यू दे कर  बता सकते हैं कि तात्कालिक प्रेग्नेंसी में आपको प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना है या नहीं । इससे वाक़ई आपको और पल रहे बच्चे को मदद मिलती है ।

Disclaimer:  The views expressed in this article are those of the doctor and are meant for educational purposes only. Both the doctor and the Journal encourage you to consult a qualified doctor for any health issues you may have. Self-medication or self-diagnosis is to be avoided and maybe harmful. 

0 Comments
scroll to top