Close
Print This Post Print This Post

When should I take Aspirin in Pregnancy? What Every Pregnant Woman Should Know!

Dr Shilpa Satarkar, MD, is a Radiologist practising at Antarang Sonography and Colour Doppler Center, Satarkar Hospital at Aurangabad since 2002.Dr Shilpa specializes in Fetal Radiology and is a renowned faculty, teaching and mentoring other radiologists in Fetal Radiology. On the personal front, Dr. Shilpa is fond of light music and travelling. 

Dr. Shilpa shares her experience with readers on the use and role of Aspirin for Pre-eclampsia or blood pressure in pregnancy. These form part of a series of questions frequently asked by patients and are shared as part of the health education and health literacy component of Samrakshan, a nationwide initiative of IRIA to reduce avoidable deaths of babies during pregnancy in India. The questions and answers are provided in English, Marathi, Hindi and Tamil

The Hindi translation was aided by Dr. Akanksha Baghel,  Radiologist at Harda, Madhya Pradesh and the Tamil translation was aided by Ms. Deepika D Raj, a native Tamil Speaker, born, brought up and living in Chennai, Tamil Nadu. 

I am 12 weeks pregnant. My doctor has advised me to take aspirin tablets at bed time daily. I feel healthy. Why should I take the tablet?

Your journey for a healthy pregnancy is going on a very right path. As you are advised to take aspirin, it means that your 11-14 weeks scan was done properly. This scan has shown that you are having high risk of having preeclampsia.

Though, at present you are not having pre-eclampsia, there are chances that after 20 weeks you may develop high blood pressure or your baby would be very small.

Let me tell you about preeclampsia, its bad effects and about how to control preeclampsia. In some pregnant women the blood pressure can increase after 20 weeks. There can be protein loss via urine. The lady may have swelling over the body. These features of preeclampsia, may be seen any time, during second half of pregnancy or even just before or 48 hours after delivery.

This high blood pressure or preeclampsia also affects the baby inside womb. We can control the high blood pressure in mother by certain tablets but we cannot stop the effect of preeclampsia on baby inside womb. So now what can we do?

Good news is that we can predict, if the mother will have preeclampsia or not. With the high-end technology used by radiologists, the i.e. colour Doppler, we can predict the chance of having pre-eclampsia.

In your case the chance of having pre-eclampsia is high, therefore you are given aspirin tablet. If you take this tablet as told by your doctor, there will be 60 to 80 % reduction in chance of having pre-eclampsia and thereby reducing bad effects on your baby.

My friend is also pregnant, but does not have to take this tablet? Don’t all pregnant women have to take this tablet?

It is good you asked this question. Has your friend undergone the 11 to 14 weeks scan? Every pregnant woman should get her scan done between 11 to 14 weeks. Along with many other things that look at the baby, the Doppler test is done. Details about your height, weight, history of hypertension or diabetes or other illness is asked for. Then your blood pressure is checked in both arms, then a mathematical calculation is done and the risk of you having preeclampsia in future, is calculated. If the calculations show that you are having high chances of preeclampsia then tablet aspirin is started from 12th week.

If the pregnant lady has low chances of having preeclampsia, then there is no need of taking aspirin.

How will the tablet help me?

Tiny blood clots block the bloods vessels in the placenta and reduce oxygen and nutrition going towards baby. Aspirin tablet prevents the formation of tiny blood clots. There by the blood flow to placenta is not blocked. The damage to placenta is prevented . The fetus gets adequate oxygen and nutrition. If placenta gets damaged because of reduced blood supply, it will release certain toxins in mothers’ blood. These toxins will lead to increase in blood pressure of mother, as well as they will damage kidney and liver of mother. So, when placenta gets good blood flow, damage to mother is also prevented. So, both the mother and fetuses get benefit. 

Will the tablet affect my health or health of my baby?

No, the tablet won’t have bad effects on your health. There will be no adverse effect during or even after pregnancy. There is no increase in bleeding complications with use of aspirin.

There will be no bad effect on your baby. There will be no abnormality in your babies.

What will happen if I miss  taking the tablet for few days or weeks ?

Studies have shown that when aspirin 150mg is taken at a fixed time, preferably at night before sleeping, then that will have maximum beneficial effect. So, the daily dose must not be missed.  For example you get 80% good effect by taking tablet regularly, if you miss the tablets the good effect will be reduced to 40-30 % . 

We are taking aspirin tablets 1. To reduce the chances of preeclampsia. 2.  To prevent growth restriction of the baby in your womb. So, you must not miss the tablet.

How long should I take the tablets?

In the 11-14 weeks scan when the risk of preeclampsia comes high, tablet aspirin is started and you must take the tablets till delivery or till 37 weeks of pregnancy.

Can I take the tablet any time during the day? Why should I take it only at bed time?

It is better if you take tablet at bed time. Aspirin taken at night time, rather than at any time, has an increased effect.

When should I visit the doctor again after taking the tablet?

You can visit your doctor for the monthly checkups as and when they are scheduled.

How will I know that tablet is helping me? I felt healthy before taking tablet and even now.  Is the tablet helping in anyway?

The main aim of Pre-eclampsia screening program is to identify high risk cases and start treatment.

You will not know immediately, if the tablet is helping you or not. You will come to know that after 20 weeks. In second half of pregnancy if your blood pressure is normal, if the fetal weight is as per the expected gestational age, that means tablets are working.

At the 19-20 weeks sonography scan if the blood flowing towards the uterus is normal, then it is an indirect evidence that tablets are working.

MARATHI TRANSLATION 

मला सध्या गर्भावस्थेचा १२ वा आठवडा चालू आहे माझ्या डॉक्टरांनी मला अस्परीनची गोळी रोज रात्री झोपतेवेळी घेण्यास सांगितली आहे ? मी  ही गोळी घ्यावी का व कशासाठी घ्यावी ?

 सर्वप्रथम तुमचे अभिनंदन करते तुमचा हा गर्भावस्थेचा प्रवास निर्विघ्न पार पडो अशी ईश्वरचरणी प्रार्थना करते.

अस्परीन ची गोळी तुम्हाला घेण्यास सांगितले आहे कारण तुमच्या सोनोग्राफीमधे preeclampsia होण्याची शक्यता दिसत आहे. तुम्हाला सध्या प्रिएक्लॅम्पशीया नाही पण नंतर म्हणजे २० आठवड्यानंतर होण्याची शक्यता आहे .  

तुम्हाला प्रिएक्लॅम्पशीया बद्दल, ह्याचे दुष्परिणाम, व ते कसे कमी करता येईल हे सांगते . काही स्त्रियांमध्ये गर्भावस्थेच्या २० व्या आठवड्यानंतर रक्तदाब प्रमाणापेक्षा जास्त वाढायची शक्यता असते . २० आठवड्यापर्यंत सुस्थितीत(साधारण ) असलेला रक्तदाब (blood pressure) २० आठवड्यानंतर वाढायला लागतो. लघवीच्या तपासणी मधे प्रोटीन्स येतात, अंगावर खूप सूज येते.

हा रक्तदाब २० आठवड्यानंतर कधीही वाढू शकतो. ७,८,९ व्या महिन्यात किंवा प्रसुतीच्या (Delivery) आधी  किंवा प्रसुतीनंतर अठेचाळीस तासांपर्यंत कधीही रक्तदाब वाढू शकतो .

ह्या उच्च रक्तदाबाचे आईवर तसेच पोटातल्या बाळावर अनेक प्रकारचे दुष्परिणाम होऊ शकतात . हे वाईट परिणाम आपण थांबवू शकतो का ? एकदा का गर्भावातीचा रक्तदाब वाढला तर बाळावर होणारा वाईट परिणाम  आपण थांबवू शकत नाही. गोळ्या देऊन आईचा रक्तदाब (control) नियंत्रणामध्ये आणू शकतो, पण बाळावर होणाऱ्या वाईट परिणामांना थाबावू शकत नाही. 

मग काय करता येऊ शकतो ? Radiologist वापरत असलेले आधुनिक तंत्रज्ञानाचा  सहाय्याने आपण गर्भावस्थेच्या तिसऱ्या महिन्यात, कलर डॉपलर च्या चाचणीने , प्रिएक्लॅम्पशीया होण्याची शक्यता आहे का? ह्याचा अंदाज देऊ शकतो.

तुमच्या १२व्य आठवड्याच्या सोनोग्राफी मधे प्रिएक्लॅम्पशीया होण्याची शक्यता आली आहे म्हणून तुम्हाला अस्परीनच्या गोळ्या घेण्यास सांगितले आहे.

हि गोळी घेतल्यामुळे  प्रिएक्लॅम्पशीया व्हायची शक्यता ६० ते ८० % ने कमी होते. म्हणून हि गोळी घेणे आवश्यक आहे.

माझी मैत्रीणसुद्धा गर्भवती आहे ? पण तिला ह्या गोळ्या नाही घ्याव्या लागत ? सगळ्या गर्भावातीना ह्या गोळ्या घेण्याची गरज नसते का ?

तुम्ही हा प्रश्न विचारला हे खूप चांगले झाले. तुमच्या मैत्रिणीने ११ ते  १४ आठवड्यामधील सोनोग्राफी केली का? प्रत्येक गर्भवतीने ११ ते १४ आठवड्यामध्ये सोनोग्राफी करणे अत्यावश्यक आहे. ह्या सोनोग्राफीमध्ये बाळाची तपासणी तर होतेच, पण त्याच बरोबर एक कलर डॉपलर ची तपासणी होते. तुमची उंची, वजन, उच्च रक्तदाब अथवा डायबेटीस आहे का, इत्यादी माहिती घेतली जाते. हि माहिती व कलर डॉपलर चाचणी मिळून काही गणित केली जातात व ह्यातून मिळालेल्या  आकड्याद्वारे तुमच्या मधे पुढेचालून प्रिएक्लॅम्पशीया यायची शक्यता किती आहे हे सांगितले जाते. 

जर हि शक्यता जास्त आली तर तुम्हाला  अस्परीनच्या गोळ्या सुरु करतात.

जर शक्यता कमी आली तर गोळ्या दिल्या जात नाहीत.

ह्या गोळ्या मला कसा फायदा  होईल ?

ज्या गर्भवतीमध्ये प्रिएक्लॅम्पशीया व्हायची शक्यता असते, तिच्या मधे रक्ताच्या बारीक गुठळ्या placenta किंवा ‘वार’ मधे जाऊन अडकतात . त्यामुळे बाळाकडे जाणाऱ्या रक्तपुरवठ्यावर वाईट  परिणाम होतो. बाळाला अन्न व ऑक्सिजन दोन्ही पण कमी प्रमाणात मिळते व बाळाची वाढ खुंटते. तसेच ‘वार’ मधे रक्त गुठळ्या अडकल्यामुळे, वार (placenta) मधून काही विषद्रव्य निघतात व त्यामुळे आईचा रक्तदाब वाढतो, तसेच आईच्या लिव्हर व किडनीवर वाईट परिणाम होतो.

अस्परीनच्या गोळीमुळे रक्त पातळ होते, ह्या गुठळ्या होत नाहीत, व वार (placenta) आणि बाळाकडे जाणारा रक्तपुरवठा व्यवस्थित होतो. बाळ तर सुद्रुढ होतेच शिवाय आईचा रक्तदाब पण वाढत नाही. असा ह्या गोळ्यांचा दुहेरी फायदा आहे.

ह्या अस्पिरीनच्या गोळीमुळे माझ्या किंवा बाळाच्या तब्येतीवर काही वाईट’ परिणाम होईल का?

नाही, ह्या गोळयामुळे तुमच्या प्रकृतीवर काहीही वाईट परिणाम होणार नाही. ह्या गोळ्या निर्धोक आहे . ह्या गोळयामुळे रक्त जरी पातळ होत असेल तरी त्यामुळे शरीरात कुठेरी, कुठल्याही प्रकारचा रक्तस्त्राव होणार नाही. अनेक संशोधनामध्ये हे सिद्ध झाले आहे की अस्परीनमुळे गर्भारपणात व त्यानंतर हि आईवर वाईट परिणाम होत नाहीत.

अस्परीनमुळे गर्भावरसुद्धा काही दुष्परिणाम नाहीत. गर्भाभोवती  रक्तस्त्राव किंवा गर्भाचे व्यंग ह्या पैकी काहीही होत नाही.

उलट अस्परीनमुळे गर्भाशयाकडे व  वार (placenta) कडे जाणारा रक्तपुरवठा वाढतो व बाळाची प्रकृती सुधारते .

मी जर अस्परीन ची गोळी काही दिवस किंवा काही आठवडे घेतली नाही तर काय होईल ?

तुम्हाला आस्परीनची गोळी घेण्यास सांगितली आहे त्याची मुख्य दोन कारणे आहेत .1. तुमच्या ११-१४ आठवड्याच्या तपासणीमध्ये प्रिएक्लॅम्पशीया च्या वाढलेल्या शक्यतेवर नियंत्रण आणण्यासाठी . 

२. प्रिएक्लॅम्पशीया मुळे तुमच्या बाळाच्या वजन वाढीवर निर्बंध येऊ शकते.  त्यामुळे बाळ कमी वजनाचे होऊ शकते. नियमितपणे अस्परीनची गोळी घेतल्यास बाळाचे वजन व्यवस्थित वाढू शकते. 

तुम्ही नियमितपणे गोळी घेतली नाही तर, तुमचा रक्तदाब वाढायची किंवा बाळाचे वजन कमी राहण्याची शक्यता असते. हे टाळण्यासाठी गोळ्या नियमित घ्याव्यात . 

किती दिवस मला ह्या गोळ्या घ्याव्या लागतील.

११-१४ आठवड्यांच्या स्कॅनमध्ये प्रीक्लेम्पसियाचा धोका जास्त येतो तेव्हा टॅब्लेट अ‍ॅस्पिरिन सुरू करतात, आणि प्रसूतीपर्यंत किंवा गर्भधारणेच्या 37 आठवड्यांपर्यंत तुम्ही गोळ्या घ्याव्यात. 

मी हि गोळी दिवसभरात कधीपण घेऊ शकते का ? रात्री झोपन्यापुर्वीच का घ्यावी?

रात्री झोपण्यापूर्वी अस्परीनची गोळी घेतल्यास त्याचा परिणाम अधिक चांगला होतो. त्यामुळे दिवसा कधीही गोळी घेण्यापेक्षा रात्री घेणे जास्त फायद्याचे आहे.

गोळ्या सुरु केल्यानंतर मी माझ्या डॉक्टरांकडे कधी जाऊ ?

तुमच्या डॉक्टरांनी सांगितलेल्या मासिक तपासणीच्या तारखेला तुम्ही जा.

मला कसे कळेल की मी घेत असेल्या गोळ्या परिणामकारक आहेत ? माझी प्रकृती गोळ्या सुरु  करायच्या आधी व नंतर अगदी तर ठणठणीत आहे, मग गोळ्यांचा फायदा होतो आहे हे मला कसे कळेल? 

प्रिएक्लॅम्पशीया सुरु व्हायच्या आधी औषोधोपचार सुरु करणे हा preeclampsia Screening चा मुळ उद्देश आहे.

आज जरी तुमची प्रकृती उत्तम असली तरी, तुमच्या ११-१४ आठवड्याच्या चाचणीत तुम्हाला प्रिएक्लॅम्पशीया  होण्याची शक्यता खूप जास्त आली आहे. तुमच्या व गर्भाच्या प्रकृतीवर प्रिएक्लॅम्पशीया मुळे होणारे वाईट परिणाम टाळण्यासाठी १६ व्या आठवड्याच्या आत अस्परीन च्या गोळ्या सुरु कराव्या लागतात.

 ह्या गोळ्यांचा फायदा होत आहे का हे आपल्याला १९-२० आठवड्याच्या सोनोग्राफी मधे तसेच पुढच्या मासिक तपासण्यामध्ये व सोनोग्राफी कळू शकते. जर तुमचा रक्तदाब व्यवस्थित असेल व तुमच्या बाळाचे वजन गर्भावस्थेच्या आठवड्याना अनुसरून असेल तर ह्याचा अर्थ गोळ्या घेण्याचा फायदा होत आहे.

HINDI TRANSLATION

मेरी फ़िलहाल 12 हफ़्ते की गर्भावस्था है।  मेरे डॉक्टर ने मुझे रोजाना सोते समय एस्पिरिन की गोलियां लेने की सलाह दी है।  वैसे तो मैं स्वस्थ महसूस करती हूं फिर मुझे टैबलेट क्यों लेनी चाहिए?

 स्वास्थ्य के नज़रिये से आपकी गर्भावस्था फिलहाल अच्छी है।  जैसा कि आपको एस्पिरिन लेने की सलाह दी  गई है, इसका मतलब है कि आपका 11-14 सप्ताह का स्कैन ठीक से हुआ है।  और इसके अनुसार  आपको प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना औरों से अधिक है।

 हालाँकि, वर्तमान में आपको प्री-एक्लेमप्सिया नहीं है, ऐसी संभावना है कि 20 सप्ताह के बाद आपको उच्च रक्तचाप हो सकता है या पल रहे बच्चे का वज़न अनुमान से कम हो ।

पहले तो मुझे आपसे प्रीक्लेम्पसिया, इसके बुरे प्रभावों और इस पर नियंत्रण के बारे में कुछ ख़ास बातें साझा करनी चाहिए।  कुछ गर्भवती महिलाओं में 20 सप्ताह के बाद रक्तचाप बढ़ सकता है।  मूत्र के माध्यम से प्रोटीन की हानि हो सकती है।  महिला के शरीर पर सूजन आ सकती है।  प्रीक्लेम्पसिया के ये लक्षण गर्भावस्था के दूसरे छमाही के दौरान या प्रसव के ठीक 48 घंटे पहले भी देखे जा सकते हैं।

 यह उच्च रक्तचाप या प्रीक्लेम्पसिया भी गर्भ के अंदर के बच्चे को प्रभावित करता है।  हम कुछ गोलियों के द्वारा माँ के उच्च रक्तचाप को तो नियंत्रित कर सकते हैं लेकिन यदि प्रीक्लेम्पसिया हो चुका है तो हम गर्भ में पल रहे बच्चे पर इसके कारण होने वाले कुप्रभावों को रोक नहीं सकते।  तो अब हम क्या कर सकते हैं?

 अच्छी खबर यह है कि हम अनुमान लगा सकते हैं, कि तात्कालिक प्रेग्नेंसी में माँ को प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना है भी या नहीं ।  रेडियोलॉजिस्ट द्वारा उपयोग की जाने वाली विकसित तकनीक, यानी कलर डॉपलर  के माध्यम से हम प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना का अनुमान लगा सकते हैं।

 आपके मामले में प्री-एक्लेमप्सिया होने की संभावना अधिक है, इसलिए आपको एस्पिरिन टैबलेट दी जानी चाहिये।  अध्ययनों और शोधकार्यों में पाया गया है कि यदि इस संबंध में आप अपने डॉक्टर द्वारा बताई गई गोली को लेतीं हैं, तो प्री-एक्लेमप्सिया होने की संभावना 60 से 80% तक कम हो जाती है और इस तरह पल रहे बच्चे पर होने वाले कुप्रभावों को बहुत हद तक कम किया जा सकता है।

 मेरी सहेली भी गर्भवती है, लेकिन वो तो ये टैबलेट नहीं ले रही ?  क्या सभी गर्भवती महिलाओं को यह गोली नहीं लेनी है?

 जानकर खुशी हुई कि आपने यह प्रश्न किया भी।  क्या सहेली की 11 से 14 सप्ताह के बीच कोई सोनोग्राफी हुई है ?  प्रत्येक गर्भवती महिला को 11 से 14 सप्ताह के बीच सोनोग्राफी करानी चाहिए।  सोनोग्राफी के माध्यम से गर्भ में पल रहे बच्चे की ली जाने वाली अन्य जानकारियों के साथ ही डॉपलर परीक्षण किया जाता है ताकि इस बात का पता चल सके कि गर्भाशय में रक्त संचार पर्याप्त है या नहीं।  आपकी ऊंचाई, वजन, उच्च रक्तचाप या मधुमेह या अन्य लम्बी बीमारी और उससे संबंधित इलाज के बारे में विवरण लिया जाता है ।  आपके रक्तचाप को दोनों बाहों में एक ही समय पर नापा जाता है, फिर एक विशेष गणितीय आंकलन के माध्यम से तात्कालिक प्रेग्नेंसी में प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना का पता लगाया जाता है।  यदि गणना के माध्यम से ये पाया जाता है कि आपको प्रीक्लेम्पसिया होने की अधिक संभावना है तो टैबलेट एस्पिरिन 12 वें सप्ताह से शुरू की जाती है।

 और यदि गर्भवती महिला को प्रीक्लेम्पसिया होने की  संभावना कम है, तो एस्पिरिन लेने की कोई आवश्यकता नहीं है।

टेबलेट कैसे मदद करेगी ?

 रक्त के छोटे थक्के अपरा या आम भाषा में कहें आवल में रक्त वाहिकाओं में खून के प्रवाह को अवरुद्ध करते हैं और इस कारण बच्चे की ओर जाने वाली ऑक्सीजन और पोषण की मात्रा तुलनात्मक रूप से कम हो जाती है।  एस्पिरिन टैबलेट रक्त के छोटे थक्कों के गठन को रोकती है इस प्रकार प्लेसेंटा में रक्त प्रवाह अवरुद्ध नहीं होता है  और प्लेसेंटा या आवल को क्षति से रोका जा सकता है जिससे कि भ्रूण को पर्याप्त ऑक्सीजन और पोषण मिलता रहे।  यदि रक्त की आपूर्ति कम होने के कारण प्लेसेंटा क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो यह माँ के  रक्त में भी कुछ विषाक्त पदार्थों को स्त्रावित करने लगता है ।  इन विषाक्त पदार्थों से माँ के रक्तचाप में वृद्धि होने की संभावना के साथ – साथ, यहाँ तक कि गुर्दे और जिगर (लिवर) को भी नुकसान पहुंच सकता है।  इसलिए यदि  प्लेसेंटा या आवल तक पहुंचने वाले रक्त का प्रवाह पर्याप्त मात्रा में है तो इससे  माँ को होने वाले नुकसान से भी बचाया जा सकता है।  बेशक़ पल रहे बच्चे के साथ ही गर्भवती माँ को भी फायदा होता ही है ।

 क्या ये टैबलेट मेरे या मेरे बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित करेगी ?

 नहीं, इससे आपके स्वास्थ्य पर  कोई  बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा।  गर्भावस्था के दौरान या उसके बाद भी ।  लो डोज़ एस्पिरिन के उपयोग के साथ रक्तस्राव संबधि जटिलताओं में भी कोई वृद्धि नहीं होती  है।

 आपके बच्चे पर भी कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा।  आपके शिशु में कोई असामान्यता नहीं होगी।

 अगर मैं कुछ दिनों या हफ़्तों तक टेबलेट लेना छोड़ दूं तो क्या होगा?

अध्ययनों से पता चला है कि जब एस्पिरिन 150 mg एक निश्चित समय पर ली जाती है  अधिकांशतः रात को सोने से पहले, तो इसका  लाभकारी प्रभाव सबसे ज्यादा देखा गया है।  इसलिये रोज़ की ख़ुराक कभी भी चूकनी नहीं चाहिए ।  उदाहरण के लिए,  नियमित टैबलेट लेने से अच्छे  प्रभाव मिलने की संभावना  यदि 80% है तो वहीं  अनियमितता के चलते यही संभावना 30 से 40 % तक ही रह जाती है।

 हम एस्पिरिन की गोलियां क्यों ले रहे हैं  पहला) ,  प्रीक्लेम्पसिया की संभावना को कम करने के लिए और दूसरा ) गर्भ में पल रहे बच्चे को विकास संबंधी समस्याओं से बचाने के लिए । तो ये काफ़ी महत्वपूर्ण  है कि आप एक भी ख़ुराक भूलें नहीं ।

 मुझे कब तक गोलियाँ लेनी चाहिए?

 11-14 हफ्तों के सोनोग्राफी स्कैन के अनुसार यदि  प्रीक्लेम्पसिया होने की संभावना अधिक पायी जाती है तब, टैबलेट एस्पिरिन शुरू कर दी जानी चाहिए  जो कि गर्भावस्था के लगभग 37 हफ़्तों तक ली जाती है ।

 क्या मैं ये टैबलेट दिन के किसी भी समय ले सकती हूँ?  इसे सोते समय लेना ही क्यों आवश्यक है ?

 यदि आप रात को सोते समय ये टैबलेट लेतीं हैं तो अध्ययनों में पाया गया है कि अपेक्षापूर्वक बेहतर परिणाम आये हैं ।  एस्पिरिन किसी भी समय लेने की बजाय रात को लें तो, इसका प्रभाव बढ़ जाता है।

 टेबलेट लेते रहूं तो दोबारा डॉक्टर से कब परामर्श लेना चाहिए?

 जब भी आपके डॉक्टर निर्धारित करें …. आप मासिक चेकअप के लिए डॉक्टर से मिल सकतीं हैं।

 ये कैसे निर्धारित होगा कि टैबलट काम कर भी रही है?  मैंने टेबलेट लेने से पहले और अब भी स्वस्थ ही महसूस किया है।  वैसे टैबलेट मदद कर भी रही है ?

 प्री-एक्लेमप्सिया स्क्रीनिंग कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य अधिक संभावना वाले मामलों की पहचान करना और उपचार शुरू करना है।

 टैबलेट आपकी मदद कर भी रहा है या नहीं ये आपको तुरंत पता नहीं चलेगा ।  आपको अप्रत्यक्ष लाभ मिलेगा लगभग  20 सप्ताह के बाद।  गर्भावस्था के दूसरे छमाही में यदि आपका रक्तचाप सामान्य ही है और यदि पल रहे बच्चे का वजन लगभग उतना ही है जितना कि उस समय की गर्भावस्था में होना चाहिए, तो इसका ये मतलब हुआ कि गोलियां काम कर रही हैं।

 19-20 सप्ताह की सोनोग्राफी स्कैन में यदि बच्चादानी में पहुँच रहे रक्त की मात्रा सामान्य है जो कि डॉप्प्लर से पता चलता है, तो यह एक अप्रत्यक्ष प्रमाण है कि गोलियाँ काम कर रही हैं ।

TAMIL TRANSLATION

 நான் 12 வார கர்ப்பிணி.  தினமும் படுக்கை நேரத்தில் ஆஸ்பிரின் மாத்திரைகளை எடுத்துக் கொள்ளுமாறு எனது மருத்துவர் அறிவுறுத்தியுள்ளார்.  நான் ஆரோக்கியமாக உணர்கிறேன். நான் ஏன் டேப்லெட்டை எடுக்க வேண்டும்?

ஆரோக்கியமான கர்ப்பத்திற்கான உங்கள் பயணம் மிகவும் சரியான பாதையில் செல்கிறது.  ஆஸ்பிரின் எடுக்க அறிவுறுத்தப்படுவதால், உங்கள் 11-14 வார ஸ்கேன் சரியாக செய்யப்பட்டது என்று அர்த்தம்.  இந்த ஸ்கேன் உங்களுக்கு ப்ரீக்ளாம்ப்சியா ஏற்படுவதற்கான அதிக ஆபத்து இருப்பதைக் காட்டுகிறது.

 தற்போது, ​​உங்களுக்கு முன்-எக்லாம்ப்சியா இல்லை என்றாலும், 20 வாரங்களுக்குப் பிறகு நீங்கள் உயர் இரத்த அழுத்தத்தை உருவாக்கலாம் அல்லது உங்கள் குழந்தை மிகவும் சிறியதாக இருக்கும்.

 ப்ரீக்ளாம்ப்சியா, அதன் மோசமான விளைவுகள் மற்றும் ப்ரீக்ளாம்ப்சியாவை எவ்வாறு கட்டுப்படுத்துவது என்பது பற்றி நான் உங்களுக்கு சொல்கிறேன்.  சில கர்ப்பிணிப் பெண்களில் 20 வாரங்களுக்குப் பிறகு இரத்த அழுத்தம் அதிகரிக்கும். சிறுநீர் வழியாக புரத இழப்பு ஏற்படலாம். அந்த பெண்ணின் உடலில் வீக்கம் இருக்கலாம்.  பிரீக்ளாம்ப்சியாவின் இந்த அம்சங்கள், எந்த நேரத்திலும், கர்ப்பத்தின் இரண்டாம் பாதியில் அல்லது பிரசவத்திற்கு 48 மணி நேரத்திற்கு முன்பே கூட காணப்படலாம்.

 இந்த உயர் இரத்த அழுத்தம் அல்லது ப்ரீக்ளாம்ப்சியா கருப்பையின் உள்ளே இருக்கும் குழந்தையையும் பாதிக்கிறது.  சில மாத்திரைகள் மூலம் தாயில் உள்ள உயர் இரத்த அழுத்தத்தை நாம் கட்டுப்படுத்த முடியும், ஆனால் கருப்பையினுள் இருக்கும் குழந்தைக்கு ப்ரீக்ளாம்ப்சியாவின் விளைவை நிறுத்த முடியாது.  எனவே இப்போது நாம் என்ன செய்ய முடியும்?

 நல்ல செய்தி என்னவென்றால், தாய்க்கு ப்ரீக்ளாம்ப்சியா இருக்கிறதா இல்லையா என்பதை நாம் கணிக்க முடியும்.  கதிரியக்கவியலாளர்கள் பயன்படுத்தும் உயர் தொழில்நுட்பத்துடன், அதாவது வண்ண டாப்ளர் மூலம், முன்-எக்லாம்ப்சியா ஏற்படுவதற்கான வாய்ப்பை நாம் கணிக்க முடியும்.

 உங்கள் விஷயத்தில் முன்-எக்லாம்ப்சியா இருப்பதற்கான வாய்ப்பு அதிகமாக உள்ளது, எனவே உங்களுக்கு ஆஸ்பிரின் டேப்லெட் வழங்கப்படுகிறது.  உங்கள் மருத்துவர் சொன்னபடி இந்த டேப்லெட்டை நீங்கள் எடுத்துக் கொண்டால், முன்-எக்லாம்ப்சியா ஏற்படுவதற்கான வாய்ப்பில் 60 முதல் 80% வரை குறைப்பு இருக்கும், இதனால் உங்கள் குழந்தைக்கு மோசமான விளைவுகளை குறைக்கும்.

 

 எனது நண்பரும் கர்ப்பமாக இருக்கிறார், ஆனால் இந்த டேப்லெட்டை எடுக்க வேண்டியதில்லை?  எல்லா கர்ப்பிணிப் பெண்களும் இந்த டேப்லெட்டை எடுக்க வேண்டாமா?

 இந்த கேள்வியை நீங்கள் கேட்டது நல்லது.  உங்கள் நண்பர் 11 முதல் 14 வாரங்கள் ஸ்கேன் செய்திருக்கிறாரா?  ஒவ்வொரு கர்ப்பிணிப் பெண்ணும் தனது ஸ்கேன் 11 முதல் 14 வாரங்களுக்குள் செய்யப்பட வேண்டும்.  குழந்தையைப் பார்க்கும் பல விஷயங்களுடன், டாப்ளர் பரிசோதனையும் செய்யப்படுகிறது. உங்கள் உயரம், எடை, உயர் இரத்த அழுத்தம் அல்லது நீரிழிவு நோய் அல்லது பிற நோய் பற்றிய விவரங்கள் கேட்கப்படுகின்றன.  உங்கள் இரத்த அழுத்தம் இரு கைகளிலும் சரிபார்க்கப்படுகிறது, பின்னர் ஒரு கணித கணக்கீடு செய்யப்படுகிறது மற்றும் எதிர்காலத்தில் உங்களுக்கு ப்ரீக்ளாம்ப்சியா ஏற்படும் ஆபத்து கணக்கிடப்படுகிறது. கணக்கீடுகள் உங்களுக்கு ப்ரீக்ளாம்ப்சியாவின் அதிக வாய்ப்புகள் இருப்பதாகக் காட்டினால், 12 வது வாரத்திலிருந்து டேப்லெட் ஆஸ்பிரின் தொடங்கப்படுகிறது.

 கர்ப்பிணிப் பெண்ணுக்கு ப்ரீக்ளாம்ப்சியா ஏற்படுவதற்கான வாய்ப்புகள் குறைவாக இருந்தால், ஆஸ்பிரின் எடுக்க வேண்டிய அவசியமில்லை.

 

 இந்த டேப்லெட் எவ்வாறு உதவும் ?

 சிறிய இரத்தக் கட்டிகள் நஞ்சுக்கொடியிலுள்ள இரத்த நாளங்களைத் தடுக்கின்றன மற்றும் குழந்தையை நோக்கிச் செல்லும் ஆக்ஸிஜன் மற்றும் ஊட்டச்சத்தை குறைக்கின்றன.  ஆஸ்பிரின் மாத்திரை சிறிய இரத்த உறைவுகளை உருவாக்குவதைத் தடுக்கிறது. நஞ்சுக்கொடிக்கு இரத்த ஓட்டம் தடுக்கப்படவில்லை. நஞ்சுக்கொடியின் சேதம் தடுக்கப்படுகிறது.  கருவுக்கு போதுமான ஆக்ஸிஜன் மற்றும் ஊட்டச்சத்து கிடைக்கிறது. இரத்த வழங்கல் குறைவதால் நஞ்சுக்கொடி சேதமடைந்தால், அது தாய்மார்களின் இரத்தத்தில் சில நச்சுக்களை வெளியிடும்.  இந்த நச்சுகள் தாயின் இரத்த அழுத்தம் அதிகரிக்க வழிவகுக்கும், அதே போல் அவை தாயின் சிறுநீரகத்தையும் கல்லீரலையும் சேதப்படுத்தும். எனவே நஞ்சுக்கொடிக்கு நல்ல இரத்த ஓட்டம் வரும்போது, ​​தாய்க்கு ஏற்படும் சேதமும் தடுக்கப்படுகிறது.  எனவே, தாய் மற்றும் கரு இருவருக்கும் நன்மை கிடைக்கிறது.

 

 இது எனது உடல்நலம் அல்லது குழந்தையின் ஆரோக்கியத்தை பாதிக்குமா?

 இல்லை, டேப்லெட் உங்கள் ஆரோக்கியத்தில் மோசமான விளைவுகளை ஏற்படுத்தாது.  கர்ப்ப காலத்தில் அல்லது அதற்கு பிறகும் எந்தவிதமான பாதகமான விளைவுகளும் ஏற்படாது.  இது ஆஸ்பிரின் பயன்பாட்டுடன் இரத்தப்போக்கு சிக்கல்களில் அதிகரிப்பு அல்ல.

 உங்கள் குழந்தைக்கு எந்தவிதமான மோசமான விளைவும் ஏற்படாது.  உங்கள் குழந்தைகளில் எந்த அசாதாரணமும் இருக்காது.

 சில நாட்கள் அல்லது வாரம் டேப்லெட்டை எடுத்துக்கொள்வதை நான் தவறவிட்டால் என்ன நடக்கும்?

 ஆஸ்பிரின் 150 மி.கி ஒரு குறிப்பிட்ட நேரத்தில், முன்னுரிமை இரவில் தூங்குவதற்கு முன் எடுக்கப்பட்டால், அது அதிகபட்ச நன்மை விளைவிக்கும் என்று ஆய்வுகள் தெரிவிக்கின்றன.  எனவே, தினசரி அளவை தவறவிடக்கூடாது. எடுத்துக்காட்டாக, டேப்லெட்டை தவறாமல் எடுத்துக்கொள்வதன் மூலம் 80% நல்ல பலனைப் பெறுவீர்கள், நீங்கள் மாத்திரைகளைத் தவறவிட்டால் நல்ல விளைவு 40-30% ஆகக் குறைக்கப்படும்.

 நாங்கள் ஆஸ்பிரின் மாத்திரைகளை எடுத்து வருகிறோம் 1. ப்ரீக்ளாம்ப்சியாவின் வாய்ப்புகளை குறைக்க.  2. உங்கள் வயிற்றில் குழந்தையின் வளர்ச்சி கட்டுப்பாட்டைத் தடுக்க. எனவே, நீங்கள் டேப்லெட்டை தவறவிடக்கூடாது.

 

 நான் எவ்வளவு நேரம் மாத்திரைகள் எடுக்க வேண்டும்?

 11-14 வாரங்களில் ஸ்கேன் செய்வதில் ப்ரீக்ளாம்ப்சியாவின் ஆபத்து அதிகமாக இருக்கும்போது, ​​டேப்லெட் ஆஸ்பிரின் தொடங்கப்பட்டு, டெலிவரி வரை நீங்கள் மாத்திரைகளை எடுக்க வேண்டும்.

 

 பகலில் எந்த நேரத்திலும் நான் டேப்லெட்டை எடுக்கலாமா?  படுக்கை நேரத்தில் மட்டுமே நான் ஏன் அதை எடுக்க வேண்டும்?

 படுக்கை நேரத்தில் டேப்லெட்டை எடுத்துக் கொண்டால் நல்லது.  எந்த நேரத்திலும் இல்லாமல் இரவு நேரங்களில் எடுக்கப்பட்ட ஆஸ்பிரின், அதிகரித்த விளைவைக் கொண்டுள்ளது.

 

 டேப்லெட்டை எடுத்துக் கொண்ட பிறகு நான் எப்போது மீண்டும் மருத்துவரை சந்திக்க வேண்டும்?

 திட்டமிடப்பட்டவுடன் மாதாந்திர பரிசோதனைகளுக்கு நீங்கள் மருத்துவரை சந்திக்கலாம்.

 

 டேப்லெட் எனக்கு உதவுகிறது என்பதை நான் எப்படி அறிவேன்?  டேப்லெட் எடுப்பதற்கு முன்பு நான் இப்போது ஆரோக்கியமாக உணர்ந்தேன்.  டேப்லெட் எப்படியும் உதவுகிறதா?

 ப்ரீ-எக்லாம்ப்சியா ஸ்கிரீனிங் திட்டத்தின் முக்கிய நோக்கம் அதிக ஆபத்து உள்ளவர்களைக் கண்டறிந்து சிகிச்சையைத் தொடங்குவதாகும்.

 டேப்லெட் உங்களுக்கு உதவுகிறதா இல்லையா என்பது உங்களுக்கு உடனடியாகத் தெரியாது.  20 வாரங்களுக்குப் பிறகு நீங்கள் அறிந்து கொள்வீர்கள். கர்ப்பத்தின் இரண்டாம் பாதியில் உங்கள் இரத்த அழுத்தம் இயல்பானதாக இருந்தால், கருவின் எடை எதிர்பார்த்த கர்ப்பகால வயதிற்கு ஏற்ப இருந்தால், அதாவது மாத்திரைகள் வேலை செய்கின்றன.

 19-20 வார சோனோகிராஃபி ஸ்கேனில் கருப்பை நோக்கி பாயும் இரத்தம் இயல்பானதாக இருந்தால், அது மாத்திரைகள் செயல்படுகின்றன என்பதற்கு மறைமுக சான்று.

Disclaimer:  The views expressed in this article are those of the doctor and are meant for educational purposes only. Both the doctor and the Journal encourage you to consult a qualified doctor for any health issues you may have. Self-medication or self-diagnosis is to be avoided and maybe harmful.

0 Comments
scroll to top