Close
Print This Post Print This Post

यह जानना महत्वपूर्ण है कि आप कितने सप्ताह की गर्भवती हैं

डॉ. ललित शर्मा पिछले 40 वर्षों से मध्य प्रदेश के गुना जिले में बतौर रेडियोलॉजिस्ट कार्यरत हैं। डॉ. ललित शर्मा बताने जा रहें हैं कि यह जानना कितना महत्वपूर्ण है कि आप कितने महीनें की गर्भवती हैं और ये भी कि ये जानकारी डॉक्टर के लिए कितनी उपयोगी है। यह जानकारी भारत में गर्भावस्था के दौरान बच्चों की होने वाली अपरिहार्य मौतों को बहुत हद तक कम करने के लिए आईआरआईए की एक राष्ट्रव्यापी पहल ‘समरक्षण’ के ‘स्वास्थ्य शिक्षा और स्वास्थ्य साक्षरता’ घटक के हिस्से के रूप में साझा की गई है।

 

  1. मैं कैसे जान सकती हूं कि मैं कितने सप्ताह से गर्भवती हूं?

 

 यह एक अच्छा प्रश्न है।  यह जानना महत्वपूर्ण है कि आप कितने सप्ताह की गर्भवती हैं।  आपके डॉक्टर, जो अल्ट्रासाउंड परीक्षण करतें हैं, वो आपको बता सकते हैं कि आप कितने सप्ताह की गर्भवती हैं।  डॉक्टर आपका एक अल्ट्रासाउंड परीक्षण करेंगे और गर्भ में पल रहे बच्चे के कुछ मापदंडो के आधार पर वे निश्चित तौर पे बता सकतें हैं कि आप लगभग कितने हफ़्ते से गर्भवती हैं ।

 

  1. ऐसी कौन सी जानकारियां हैं जो इसके लिये मुझे डॉक्टर को देनी चाहिए ?

 

 आपको डॉक्टर को अपने पिछले मासिक धर्म की तारीख बताना चाहिए  । यदि आपने इस प्रेग्नेंसी के दौरान पहले कभी सोनोग्राफी कराई है, तो उन सभी रिपोर्टों को भी डॉक्टर को दिखाएं ।  अपने पिछले गर्भावस्था के बारे में डॉक्टर को बताएं, पिछली गर्भावस्था में या फ़िलहाल आपको कोई भी बीमारी तो नहीं है, अगर पिछली कोई भी प्रेग्नेंसी ख़राब हुई हो या पहले का कोई भी बच्चा किसी जन्मजात शारीरिक या मानसिक असामान्यता के साथ पैदा हुआ हो।

 

  1. डॉक्टर मुझसे आखिरी मासिक धर्म के बारे में क्यों पूछते हैं?  वैसे मुझे क्या जवाब देना चाहिये ?

 

 डॉक्टर आपके पिछले मासिक धर्म के बारे में पूछते हैं ताकि वे गणना कर सकें कि आप कितने सप्ताह से गर्भवती हैं। और ये बात ज़्यादा ज़रूरी है कि आप अपने पिछले मासिकधर्म की शुरुआत का पहला दिन बताएं।  अक्सर, महिलाएं अपने पिछले मासिक धर्म के आखिरी दिन को बताती हैं या जब यह बंद हो जाता है उस तारीख़ से गिनना शुरू करती हैं ।

 

  1. अगर मुझे अपना आखिरी मासिक धर्म याद नहीं है तो मुझे क्या करना चाहिए?

 

 ऐसा कई बार होता है।  अपने पिछले मासिक धर्म की सही तारीखों को याद रख पाना कई बार आसान नहीं होता।  चिंता मत कीजिए। बस डॉक्टर को सूचित कर दें कि आप सुनिश्चित नहीं हैं, और आप को ठीक से याद नहीं है।  यदि आप तारीखों का अनुमान लगा रहीं हैं, तो डॉक्टर को बताएं कि निश्चित तो नहीं है लेकिन हो सकता है ये तारीख़ थी।

 

  1. मुझे अक़्सर अनियमित पीरियड होने की शिकायत थी अब इसके चलते मैं अपनी आखिरी माहवारी कैसे बताऊं?

 

 आपको डॉक्टर को बताना चाहिए कि आपके पीरियड्स अनियमित थे, बावजूद इसके कि आपको अपने  पिछले मासिकधर्म की सही तारीख़ याद हो। यह महत्वपूर्ण है। इससे भी डॉक्टर को गर्भधारण के हफ्तों का अनुमान लगाने में मदद मिलती है। सामान्यतः मासिकधर्म अनियमित हो जाते हैं  या इन अनियमितताओं के कुछ अंतर्निहित कारण भी हो सकतें हैं । डॉक्टर अधिक विस्तृत मूल्यांकन करने में सक्षम हो पाते हैं अगर उन्हें इस बात कि जारकारी है कि आपके पीरियड्स या मासिकधर्म अनियमित थे ।

  1. क्या  मुझे इस बात का पता चल सकता है कि मैं कितने सप्ताह की गर्भवती हूँ इसके बाद भी की मुझे अपने मासिक धर्म की तारीख़ याद नहीं ?

 

 हाँ बिल्कुल।  डॉक्टर आपको अल्ट्रासाउंड परीक्षण के आधार पर गर्भावस्था के सप्ताह बता सकते हैं।  डॉक्टर सबसे पहले आपके द्वारा बताये गए अंतिम मासिकधर्म की तारीख़ का उपयोग करके (अनुमानित ही सही) गर्भावस्था के हफ्तों की गणना करते हैं ।  फिर डॉक्टर एक अल्ट्रासाउंड परीक्षण और गर्भ में पल रहे बच्चे के ज़रूरी मापदंड के आधार पर इसकी पुष्टि करतें हैं। डॉक्टर दोनों विधियों द्वारा आये हुए गर्भावस्था के समय  का आंकलन करके ये तय करते हैं कि दोनों किस हद तक मेल खाते हैं । डॉक्टर ये तय करेंगे कि दोनों विधियों द्वारा बताई गई गर्भावस्था की समयावधि में कितना अंतराल है । यदि यही अंतराल  बहुत ज़्यादा पाया जाता है (अमूमन एक सप्ताह से ज्यादा) , तो डॉक्टर गर्भावस्था के सही समय का आंकलन करने के लिए अल्ट्रासाउंड परीक्षण की गणना का ही उपयोग करते हैं ।

 

  1. यह जानना इतना महत्वपूर्ण क्यों  है कि मैं कितने सप्ताह की गर्भवती हूं?  अगर हमें ये न भी पता हो तो क्या फ़र्क पड़ेगा ?

 

 यह जानना बहुत महत्वपूर्ण है कि आप कितने सप्ताह की गर्भवती हैं।  ये जानकारी डॉक्टर को कई तरह से मदद करती है।

गर्भ में पल रहा बच्चा हर हफ्ते लगातार एक निश्चित मात्रा में बढ़त दिखता है। जब भी आप डॉक्टर के पास नियमित परामर्श के लिए जातीं हैं तो डॉक्टर ये देखते हैं कि बच्चे की बढ़त कैसी है, और यह भी की उस सप्ताह या समयांतराल के लिए जो बच्चे की अपेक्षित वृद्धि होनी चाहिए वो हुई भी है या नहीं ।  डॉक्टर देखेंगे कि क्या बच्चा अपेक्षा के अनुरूप बढ़ रहा है, कहीं विकास सामान्य से कम या अधिक तो नहीं । यह निर्णय लेने के लिये गर्भावस्था का सही समय पता होना ज़रूरी है।

 डॉक्टर को इससे बच्चे के जन्म का सही समय निर्धारित करने में भी मदद मिलती है ।  आमतौर पर गर्भकाल के 37 हफ़्ते तक बच्चा जन्म के लिये लगभग परिपक्व हो जाता है। यदि गर्भावस्था की सही समयावधि पता हो तो, माँ और पल रहे बच्चे के स्वास्थ्य के आधार पर डॉक्टर को जन्म के सही समय का निर्णय लेने में काफ़ी मदद मिलती है ।

 

  1. हमें ऐसा कब करना चाहिए?

 

 11 से 13 सप्ताह के बीच गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों में डेटिंग या आकलन करना सबसे अच्छा है।  गर्भावस्था की शुरुआत में ही ये आंकलन जितने जल्दी तय हो उतना ही सटीक माना जाता है ।

 हम मूल्यांकन बाद की गर्भावस्था में भी कर सकते हैं लेकिन वे कम सटीक होते हैं।  11 से 13 सप्ताह के बीच ऐसा करना हमेशा अच्छा होता है। गर्भावस्था के कितने हफ़्ते हुए हैं इसे ध्यान में रखे और हर बार जब भी आप अपने डॉक्टर्स के पास परामर्श के लिये जाएं तो उन्हें इस बारे में बताएं ।

 

  1. क्या ऐसा करना सुरक्षित है?  क्या इससे मेरे या पल रहे बच्चे के स्वास्थ्य पर कोई असर पड़ सकता है ?

 हां, ऐसा करना बिल्कुल सुरक्षित है।  यह किसी भी अन्य अल्ट्रासाउंड परीक्षा की तरह ही है।  डॉक्टर आपके पेट पे एक जैल (तरल लेप) लगाएंगे और फिर सोनोग्राफी उपकरण के माध्यम से मामूली सा नाम मात्र का दबाव भी डाल सकतें हैं।  इसमें किसी भी प्रकार का दर्द नहीं होता , कोई इंजेक्शन वग़ैरह नहीं लगाया जाता किसी भी प्रकार से यह खून की कोई जांच जैसा भी नहीं है।

 

  1. क्या हम गर्भावस्था की अनुमानित तारीखों को बाद में बदल सकते हैं?  हो सकता है कि गर्भावस्था के सप्ताह के आंकलन में शुरुआत में दी गई जानकारी गलत हो।

 नहीं, हमें बाद में गर्भधारण की अनुमानित तारीखों को नहीं बदलना चाहिए।  ये ठीक नहीं है। ऐसी स्थिति में हमें 11-13 सप्ताह के बीच जो सोनोग्राफी हुई है और उसमें जो अनुमानित तारीख़ आयी है गणना फिर उस आधार पर करनी चाहिए।  यही कारण है कि डॉक्टर को शुरुआत से ही सही जानकारी दी जाए।

 

 प्रत्येक बार तिथियों को बदलना उचित नहीं है क्योंकि डॉक्टर इन तिथियों का उपयोग यह पता लगाने के लिए करतें हैं कि बच्चा कैसे बढ़ रहा है।  यदि यही बढ़त ठीक नहीं है, तो डॉक्टर को यह तय करना होता है कि आगे क्या करना है। यदि आप तिथियां बदलती हैं, तो ऐसा लग सकता है कि आपका बच्चा अच्छी तरह से बढ़ रहा है, जबकि वास्तव में ऐसा है ही नहीं। ऐसी स्थिति में पल रहा बच्चा आवश्यक अतिरिक्त देखरेख से वंचित हो जाता है।  या ऐसी भी स्थिति बन सकती है कि बताई गई ग़लत तारीख़ के आधार पर डॉक्टर को ऐसा लगे की बच्चा पूरी तरह से विकसित हो गया है औऱ वो तय कर लें जन्म के लिये सही समय आ चुका है जबकि वास्तव में बच्चा पूरी तरह से विकसित न हुआ हो और अभी भी माँ के गर्भ में उसे अधिक समय की जरूरत हो।

 

 तिथियां बदलना आपके बच्चे के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है।

 

  1. मुझे इस परीक्षण की रिपोर्ट के रूप में डॉक्टर से क्या पूछना चाहिए?

 

गर्भावस्था के कितने सप्ताह हो गए हैं या गर्भावस्था की डेटिंग या कहें कब से गिना जाए ये पूँछिये।  अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या आपका बच्चा सामान्य रूप से बढ़ रहा है और फिलहाल स्वास्थ्य है या नहीं।

 रिपोर्ट में ये शामिल होना चाहिए कि गर्भावस्था का कितना समय या हफ़्ते बीत चुके हैं, इसका आंकलन किस आधार पर लगाया गया है आपके अंतिम मासिकधर्म की तिथि के आधार पर या इसी प्रेग्नेंसी की पहली किसी सोनोग्राफी की रिपोर्ट में दी गयी अनुमानित जन्म की तारीख़ के आधार पर । और ये पूछना चाहिए कि अभी जन्म में कितना समय है या किस तारीख़ तक जन्म होने की संभावना है ।

 

  1. क्या मुझे अगले परामर्श के लिए इस रिपोर्ट को अपने साथ ले जाना चाहिए?

 हां, कृपया सभी रिपोर्टों को सुरक्षित रखें और इन्हें अपने चिकित्सक को हर परामर्श में दिखाएं।

Leave a Reply

0 Comments
scroll to top